कराग्रे वसते लक्ष्मी मंत्र अर्थ और लाभ|Karagre Vasate Lakshmi Mantra in Hindi 

कराग्रे वसते लक्ष्मी मंत्र: यह एक ऐसा मंत्र है जिसके जाप से जातक को उसके जीवन में अपार धन, समृद्धि, सौभाग्य, और सुख की प्राप्ति होती है। इस मंत्र का जाप विभिन्न शुभ मुहूर्तों में होती है। आप भी इस मंत्र के जाप से अपना जीवन बदल सकते हैं। धन और शिक्षा के क्षेत्रों में सुधार होते हैं तथा जीवन में सौभाग्य की प्राप्ति होती है। आपको अपने जीवन में संघर्ष को दूर करने और फोकस प्राप्ति के लिए कराग्रे वसते लक्ष्मी मंत्र (Karagre Vasate Lakshmi Mantra in Hindi) का जाप अवश्य करना चाहिए।

कराग्रे वसते लक्ष्मी मंत्र | Karagre Vasate Lakshmi Mantra in Hindi

कराग्रे वसते लक्ष्मीः करमध्ये सरस्वती ।

करमूले तु गोविन्दः प्रभाते करदर्शनम ॥

कराग्रे वसते लक्ष्मी मंत्र का अर्थ: हे लक्ष्मी मेरे हाथ के अग्रभाग पर आपका निवास स्थान है। मेरे हाथ के मध्य भाग में विद्यादेवी सरस्वती का निवास स्थान है और मेरे हाथ के नीचे मूल भाग में विष्णु का निवास स्थान है। हे लक्ष्मी मै हर दिन प्रभात काल में आपकी दर्शन करता/करती हूं। 

वराही ध्यनाम मंत्र

कर्पूर गौर मंत्र

कराग्रे वसते लक्ष्मी मंत्र का जाप प्रातः काल हर दिन करना चलिए। इस मंत्र के जाप से अनेकों लाभ मिलते हैं। आपको अपने जीवन में कभी भी धन की कमी नहीं होती, अगर आप स्टूडेंट है तो पढ़ाई में हमेशा ध्यान रहता है। और आपके सारे काम बनने लगते हैं। जीवन में कभी भी कोई परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है। इस मंत्र के जाप से आत्मविश्वास बढ़ता है, आपको सकारात्मक बनता है। 

इस मंत्र का जाप सुबह जलदी ही कर ले। नमस्कार की मुद्रा में इस मंत्र का जाप करें। अकुर प्रतिदिन करे। इस मंत्र जाप आप अपने अनुसार कितनी बार भी कर सकते हैं। 

कराग्रे वसते लक्ष्मी कौन सा मंत्र है?

“कराग्रे वसते लक्ष्मी मंत्र” मूल रूप से विष्णु पुराण से लिया गया एक श्लोक है।

लक्ष्मी मंत्र कब शुरू करना चाहिए?

सुबह के समय लक्ष्मी मंत्रों का जाप करना चाहिए। क्योंकी यह समय सबसे अच्छा माना जाता है। यह वातावरण शांत और एकदम शुद्ध रहता है।

Author: Allinesureya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *