0 Shadow Day Kab Hai|जीरो शैडो डे का मतलब क्या है?

0 Shadow Day Kab Hai: कभी कभी कुछ ऐसे वर्ष भी होते हैं जब आपको ऐसा महसूस हो कि आपकी छाया और किसी नॉर्मल दिन के मुकाबले छोटे दिख रहे हो कभी कभी तो बिल्कुल भी चाय ही दिखाई ना दे रही हो। पर यह हर स्थान पर एक समान हो यह जरूरी नहीं होता। अलग अलग जगहों की अलग ही स्थिति होती है। 

जीरो शैडो डे का मतलब क्या है?क्या होती है जीरो शैडो

जीरो शैडो डे का मतलब एक ऐसा दिन जब कोई भी व्यक्ति बच्चे हो या फिर किसी भी उम्र के हो किसी को भी अपनी परछाई दिखाईं नहीं देती हैं। यह एक खास दिन होता है। इस दिन सूरज ठीक सिर के ऊपर होता है, जिस कारण से इस दिन कोई परछाई नहीं बन पाती, इसलिए इस स्थिति को जीरो शैडो कहा गया है।

जानिए आपको बिस्तर पर हनुमान चालीसा को पढ़ना चाहिए या नहीं

64 योगिनियों के नाम

किस राज्य में शून्य छाया दिवस है?

कर्नाटक राज्य एक ऐसा राज्य है जहां पर शून्य छाया दिवस है इस राज्य की राजधानी जो कि बेंगलुरु है, यहां पर शुक्रवार दोपहर एक दुर्लभ खगोलीय घटना हुई। जब लोगो ने यहां शून्य छाया अनुभव किया। जिसे अब यहां शून्य छाया दिवस के रूप में जाने लगा है। ‘शून्य छाया दिवस’ वहीं घटना है जब सूर्य सीधे सिर के ऊपर होती है। जिस कारण पृथ्वी सतह पर कोई छाया नहीं दिखाई देती है। दिन ठीक 12 बजकर 23 मिनट पर यह खगोलीय घटना को महसूस किया गया। यही समान घटना जीरो शैडो डे की अद्भुत घटना ओडिशा के भुवनेश्वर में 2021 में भी देखी जा चुकी है।

सबसे लंबी छाया कब होती है?

पूरे साल में कुछ ऐसे भी दिन आते है जब छाया की लंबाई थोड़ी बड़ी दिखाई देती है। ऐसे घटनाए 21 जून और 23 सितंबर के दिन आपको देखने को मिलती है। आप अपनी लंबी छाया दोपहर के समय में ही देख सकते हैं, इसलिए इसे सुबह और शाम में ही देखे तब आपको दिखाई देगी।

Author: Allinesureya

2 thoughts on “0 Shadow Day Kab Hai|जीरो शैडो डे का मतलब क्या है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *