तुलसी माता की आरती|मंत्र|पुजा विधि जानें संपूर्ण जानकारी

तुलसी माता की आरती

जय तुलसी माता, जै तुलसी माता।

सौभाग्य विद्या दात्री, जग कुटुंब संब्धनि करै।

जय जय तुलसी, माता, तुलसी जय जय माता।

सुप्रभात माधवती, मंगल करनि करै।

तुलसी की कथा तुलसी गाएं,

श्रीरामचन्द्र की कथा राम रते निकारे।

तुलसी के पति विष्णु भगवान,

तुलसी ना तो सब दुःख भगाये।

तुलसी के विषय में सब कहें,

तुलसी हमको सत्य सिखाये।

श्याम तुलसी राम तुलसी,

तुलसी हमको जीवन दे दे।

तुलसी की आरती, जो कोई गावे,

तारू जन्म यही जन्म को पावे।

तुलसी माता की आरती

जय जय तुलसी माता, जय जय तुलसी माता।

तुवन विना राधा कृष्ण नहीं मना, जय जय तुलसी माता।

तुमहारे भवन, बिगड़े तुम्हारे द्वारा।

आगम निगम बखान, सपरिवार, जय जय तुलसी माता।

तुला माता की आरती जो कोई नर गावे।

अपद की धूप बसे, तारी तारी जीवन में आवे।

इस आरती को गाकर तुलसी माता को समर्पित करना, आपके जीवन में शांति और सुख का आभास कराएगा। इस आरती का गाना आप तुलसी माता की पूजा में उच्चारण कर सकते हैं, जो आपको आनंद और शांति का अहसास कराएगा।

जानें राम मंदिर के बारे में अधिक

सही फल प्राप्ति के लिए, जानें ॐ मंत्र का जाप कैसे करना

तुलसी माता की पूजा विधि निम्नलिखित रूप से की जा सकती है:

1. स्थान चयन

   पहले, एक शुभ स्थान चयन करें जहां आप तुलसी पौधा रख सकते हैं, जैसे कि गर्डन, बैलकनी, या मंदिर।

2. तुलसी का पौधा स्थापना

   तुलसी का पौधा धरती में स्थापित करें और उसे पूजन स्थल पर सजाएं।

3. पूजा सामग्री

   तुलसी पूजा के लिए आपको जल, रोली, चावल, कुमकुम, दीप, धूप, फूल, और पूजन के लिए विशेष मंत्रों की आवश्यकता होती है।

4. पूजा का समय

   तुलसी पूजा का समय सुबह और शाम हो सकता है, लेकिन ध्यान रखें कि पूजा का समय नियमित होना चाहिए।

5. पूजा की शुरुआत

   पूजा की शुरुआत करते समय अपने हाथों को धोकर सफा करें और पूजन स्थल को भी साफ करें।

6. तुलसी माता का आराधना

   शुद्ध मन से तुलसी माता की पूजा करें, मंत्रों के साथ पूजा करते समय तुलसी का पौधा समर्पित करें।

7. पूजा मंत्र

   “ॐ तुलस्यै नमः” या अन्य तुलसी माता के मंत्रों का उच्चारण करें।

तुलसी माता के कुछ मंत्रों का उच्चारण आपकी पूजा और ध्यान को शक्ति प्रदान कर सकता है:

1. ॐ तुलस्यै नमः

2. ॐ श्री तुलस्यै नमः

3. ॐ तुलसीदेव्यै नमः

4. ॐ कृष्णजीवनायै नमः

5. ॐ विष्णुपत्न्यै नमः

6. ॐ देवी तुलसी मात्रे नमः

7. ॐ श्रीकृष्णप्रियायै नमः

8. ॐ भूतप्रेतपिशाचनाशिन्यै नमः

9. ॐ मोक्षप्रदायै नमः

10. ॐ लक्ष्मीविभूषितायै नमः

11. ॐ कृष्णतुलसीस्वरूपायै नमः

12. ॐ त्रैलोक्यविमोचनायै नमः

13. ॐ पुण्यप्रदायै नमः

14. ॐ सर्वपूजितायै नमः

15. ॐ देवदेवेश्वरीप्रियायै नमः

16. ॐ कल्याणीयै नमः

17. ॐ तुलसीप्रणतपादाभ्यां नमः

18. ॐ शान्त्यै नमः

19. ॐ विष्णुपत्न्यै नमः

20. ॐ तुलसीमूलिन्यै नमः

इन मंत्रों का नियमित जप और उच्चारण तुलसी माता की कृपा और आशीर्वाद को प्राप्त करने में मदद कर सकता है।

8. प्रार्थना

   अपनी मनोकामनाओं की प्रार्थना करें और तुलसी माता से आशीर्वाद मांगें।

9. दीप-धूप

   दीप और धूप से पूजा को समर्पित करें, इससे आत्मा को शुद्धि मिलेगी।

10. प्रसाद बाँटना

    पूजा के बाद प्रसाद को तुलसी माता के पौधे पर रखें और फिर उसे अपने परिवार और दोस्तों के साथ बाँटें।

इस रूप से तुलसी माता की पूजा करने से आप उनकी कृपा प्राप्त कर सकते हैं और आपके घर में शांति और सुख-शांति बनी रहेगी।

Author: Allinesureya

3 thoughts on “तुलसी माता की आरती|मंत्र|पुजा विधि जानें संपूर्ण जानकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *