Holi 2024 कब है||जाने सही डेट Holi 2024 

Holi 2024 Kab Hai: होली खुशियों का त्योहार, जो अपने साथ बहुत सारी खुशियां के साथ जीवन में अनेक रंगों को भी लाती है। इस त्योहार को हर जगह अलग अलग नामों से भी जाना जाता है, पर यह त्योहार होता तो रंगों और खुशियों का ही है। इसके दिन प्रत्येक साल थोड़े आगे पीछे होते रहते हैं, क्योंकि इस त्योहार को हिन्दू धर्म के आधार पर मनाया जाता है। और ऐसे में कभी कभी अलग जगह होने से यह थोड़ी आगे या पीछे होते हैं। 
इसलिए इस त्योहार का दिन अलग अलग भी रहते हैं। जो प्रत्येक साल बदल जाते हैं। पर होली हमेशा ही फरवरी से मार्च तक ही मनाई जाती है। जो फाल्गुन की पूर्णिमा की शाम होती है। कई जगहों पर इस उत्सव को बसंत उत्सव भी कहा जाता है।

2024 में, होली की तिथि तारीख और समय द्रीक पंचांग के अनुसार, होली का शुभ समय:

होली का त्योहार – 24 मार्च, दिन – शुक्रवार 2024

फाल्गुन माह की पूर्णिमा तिथि आरंभ – रविवार 24 मार्च 2024 को सुबह 09:54 बजे से इस दिन होलिका दहन या कुछ जगहों पर इसे छोटी होली भी कहा जाता है, यह मनाया जाएगा।
फाल्गुन माह की पूर्णिमा तिथि समाप्त – सोमवार 25 मार्च 2024 को दोपहर 12:29 बजे से होली मनाया जाएगा। 
वहीं  2025 को होली 14 मार्च दिन शुक्रवार को है। वहीं क्रमशः साल 2026 में होली बुधवार 4 मार्च को होगी, साल 2027 में होली 22 मार्च को मनाई जाएगी। 2028 में होली 11 मार्च को है। 2029 में 1 मार्च को होली है साल 2030 में  20 मार्च को होली होगी।

पैसोंके लिए मंत्र

कराग्रे वस्यते लक्ष्मी मंत्र

महाराष्ट्र की होली को क्या कहते हैं?

महाराष्ट्र में होली को ‘फाल्गुन पूर्णिमा’ और ‘रंग पंचमी’ कहते हैं।  

पंजाब में होली को क्या कहते हैं?

पंजाब में होली को होला मोहल्ला कहते हैं। वहीं हरियाणा में होली को क्या कहते हैं? जानते हैं? हरियाणा में होली को होली-फाग कहा जाता है।

होली कितने देशों में मनाई जाती है?

वैसे तो होली भारतीयों का एक प्रमुख त्योहार है, जहां जहां भारतीय है वहां होली मनाया जाता है। पर यह भारत और नेपाल में धूमधाम से मनाया जाता है।

होली के दौरान रात में क्या किया जाता है?

होली मनाने से एक रात पहले, छोटी होली या होलीका दहन किया जाता है। इस दिन को पंजाब में लोहड़ी के रूप में मनाई जाती है। इस दिन शाम के समय में लोग सारे इकठठे होकर होलिका की आग जलते हैं। और उसकी पूजा कर के आहुति देते हैं। उन आज के चारों ओर परिक्रमा करते हैं और अपने घर की सुख समृद्धि की कामना करते हुए अपने सारी परेशनीना इसी आज में जल जाए ऐसी कामना करते हुए परिक्रमा करते हैं। और इस तरह होलिका दहन मनाया जाता है।

क्या जैन होली मनाते हैं?

होली एक ऐसा त्योहार जिसे हर कोई मनाया है। फिर चाहे वो हिन्दू हो या फिर जैन। पुराने समय से ही इस त्योहार में लोगों का उत्साह काफी देखने को मिलता है। 

1947 में होली कब था?

जब भारत आजाद हुआ साल 1947 में होली 6 मार्च, दशहरा 24 अक्टूबर वहीं रक्षाबंधन 31 अगस्त को और दीपावली 12 नवंबर को मनाई गई थी।

Author: Allinesureya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *